कहानियां / Stories

कुछ कहानिया होती ही इतनी ज़िद्दी हैं
की कलम तक तो रहती हैं,
लेकिन मेरी डायरी के पन्नो तक आते आते खो जाती हैं
शब्द कहीं बिखरे से पड़े रेहते हैं,
दिल के किसी कोने के अंदर, छुपे से
यार मैं ज़िन्दगी के सफर में वैसे ही इतना फसा हूँ,
कोई कहानियो से कह दो की मेरे साथ खिलवाड़ न करें
चंद दिनों में जब मैं वापिस अपने दिल के कोनों में झांकता हूँ,
की वो कहानियां कहीं मिल जाए,
तो वही किसी कोने में मुस्कुराती सी मिलती हो तुम
बादल सी ज़ुल्फ़ें, वो शराबी आंखें, वो जावेदा सी कुर्ती
और वही खो जाता हूँ मैं.
भूल जाता हूँ की कहानियां ढूंढने आया था
वापिस आते आते, तुमसे दूर, तुम्हारी यादों से दूर,
असल ज़िन्दगी में, मेरी कहानी फिर
कलम तक आते आते खो जाती है
बस इसी जद्दोजहद में फसा हुआ सा हूँ
तो कभी आओ मेरे दिल के कोने से बाहर,
मेरी सारी कहानियां अपने साथ लेकर
और सुनो, वो भी साथ ले आना,
जो हिस्सा मैं अपना तुम्हारे साथ छोड़ आया हूँ

i scribble and paint my diary blue,
thousands of words lay astray but
the stubborn story doesn’t come out
i try to find meaning in those words
which lay hidden in the deepest corners of my heart
the words, entangled into each other,
like the moments which shape my life,
laugh over this disdain of a situation
days pass by, and i try to find the lost stories,
in the loneliest corners of my heart, only to find
you there, sitting, smiling, carrying clouds
in your hair, whiskey in your eyes and
storms in your clothes and i submit
to the clouds, whiskey, and storms
when i tread path back to reality, far from you,
farther from your memories, i realize i left
the stories there with you
i sit here, in the endless loop, hoping you would
come some day, out of the deepest corners of
my heart carrying all those stubborn stories with you
and listen, when you come, do bring the
part of me i left there with you

Posts created 39

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts

Begin typing your search term above and press enter to search. Press ESC to cancel.